खतौली उपचुनाव की तस्वीर हो गई साफ! जानें कांटे के मुकाबले में किसका रहा पलडा भारी

खतौली विधानसभा के उपचुनाव के लिए सोमवार को 369 बूथों पर मतदान हुआ। यहां कुल 56.46 फीसदी मतदान हुआ है। बताया जा रहा है कि भाजपा और गठबंधन प्रत्याशी के बीच कांटे का मुकाबला है।

Muzaffarnagar: The woman accused the bullies of occupying the plot
Muzaffarnagar: The woman accused the bullies of occupying the plot
इस खबर को शेयर करें

मुजफ्फरनगर। खतौली विधानसभा के उपचुनाव में सोमवार को 369 बूथों पर भाजपा प्रत्याशी राजकुमारी सैनी और सपा-रालोद-आसपा गठबंधन प्रत्याशी मदन भैया के बीच कांटे का मुकाबला हुआ। आठ दिसंबर को नतीजे घोषित होंगे। देर रात तक ईवीएम को नवीन मंडी स्थल में रखवाया गया।

उपचुनाव में मतदाताओं की चाल धीमी रही, यहां सिर्फ 56.46 प्रतिशत वोट ही पड़े हैं। हालांकि मतदान शांतिपूर्ण रहा। सरधना के सपा विधायक अतुल प्रधान ने खतौली का वीडियो ट्वीट करते हुए आरोप लगाया कि मतदाता को आधार कार्ड से वोट डालने से रोका गया है, जिस पर पुलिस ने जवाब दिया कि आरोप झूठा है। चुनाव मैदान में 14 प्रत्याशी थे, जिनमें भाजपा और गठबंधन के बीच मुख्य मुकाबला है।

कांटे के मुकाबले में हार-जीत का अंतर कम रहने का अनुमान है। विधानसभा के अलावा लोकसभा के चुनाव में इस सीट पर भाजपा जीत चुकी है। सियासी गलियारों में भाजपा प्रत्याशी राजकुमारी सैनी और गठबंधन के प्रत्याशी पूर्व विधायक मदन भैया के बीच सीधी टक्कर मानी जा रही है, लेकिन मतदान प्रतिशत अच्छा रहने और मुस्लिम इलाकों में मतदान के प्रति उदासीनता से मुकाबले में भाजपा का पलडा भारी दिखाई दे रहा है।