ट्रैफिक नियम तोड़ने वालों की खैर नहीं, अब ट्रैफिक पुलिस नहीं बल्कि AI फटाक से काटेगा चालान

Those who break traffic rules will not fare well, now instead of traffic police, AI will immediately issue challan.
Those who break traffic rules will not fare well, now instead of traffic police, AI will immediately issue challan.
इस खबर को शेयर करें

AI Based Traffic Management System: आज दुनिया भारत में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस यानी AI का डंका बच रहा है. AI का इस्तेमाल हर सेक्टर में किया जा रहा है, फिर चाहे वो अस्पताल हों, स्कूल हों या फिर कोई सरकारी संस्थान. हर कोई AI का इस्तेमाल कर रहा है. AI एक ऐसा टूल है जो खुद ही फैसले लेने की क्षमता रखता है और आपको आपकी जरूरत के हिसाब से परिणाम देता है. इस पूरे प्रोसेस में महज कुछ सेकेंड का वक्त लगता है. ऐसे में ये इंसानों से तेज काम करने की क्षमता रखता है. बहुत जल्द AI ऐसे लोगों की खबर लेगा जो लगातार ट्रैफिक नियमों की धज्जियां उड़ाते रहते हैं. AI ऐसे लोगों पर जुर्माना करेगा और ये पूरा प्रोसेस गोली की स्पीड से होता है.

सिक्किम परिवहन विभाग की तरफ से हुआ ऐलान
सिक्किम की सड़कों पर अब आपको तकनीक का कमाल देखने को मिलने वाला है. दरअसल सिक्किम परिवहन विभाग की ओर से ये ऐलान किया गया है कि राज्य में आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस के जरिए ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम को शुरू किया जाएगा. इस ऐलान के बाद से अब ऐसे लोगों की मुश्किलें बढ़ने वाली हैं जो लगातार ट्रैफिक रूल्स को नजरअंदाज करते हैं. ऐसे लोगों को अब अपनी गलती की भारी कीमत चुकानी पड़ सकती है. दरअसल अब चालान काटने का का ट्रैफिक पुलिस नहीं बल्कि AI की करेगा और इससे लोगों को ट्रैफिक नियमों के प्रति जागरूक भी बनाया जा सकेगा.

AI तकनीक वाले कैमरे किए जाएंगे इंस्टॉल

ज़्यादातर राज्यों ने अभी तक स्पीड लिमिट के चालान या रेड लाइट क्रॉस तक ही इसमें तरजीह दी है ! लेकिन AI लेस कैमरा अब सिर्फ स्पीड लिमिट नहीं मापेगा ! अब हाईवे की लेन ड्राइविंग से लेकर गाड़ी का लेखा जोखा तक सब ये पकड़ पाएगा !

विभाग सड़कों पर स्मार्ट कैमरे लगवाने जा रहा है जो AI तकनीक से लैस होंगे, जिनकी मदद से ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन करने वालों को रोकने में मदद मिलेगी. इस पूरे प्रोसेस को अंजाम देने के लिए आर्टिफिशल इंटेलिजेंस बेस्ड कैमरे लगाए जाएंगे, जो ट्रिपल राइडिंग और ओवरलोडिंग से लेकर ड्राइविंग करते वक्त मोबाइल से बात करने वाले लोगों को भी आसानी से पहचान पाएंगे और तुरंत ही ऐसे लोगों के ऊपर चालान भी कर पाएंगे. कोई ऐसा वाहन चल रहा है जिसका समय पूरा हो चुका है या बिना वैलिड पीयूसी वाली गाड़ी चल रही है, तो ये कैमरे ऐसे वाहनों को पहचान लेंगे और फिर वाहनों का चालान कर देंगे. जानकारी के अनुसार 25 मई से ये ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम लाइव हो जाएगा.