tomato price : देश में अब टमाटर हुआ लाल, हुआ इतना महंगा, खरीदना हुआ मुश्किल

पिछले एक सप्ताह में tomato की कीमतों में जबरदस्त उछाल देखने को मिला। वर्तमान में थोक बाजार में इसकी कीमत 55 से 60 रुपए प्रति किलो के बीच है।

Tomato price: Tomato is now red in the country, it has become so expensive, it is difficult to buy
Tomato price: Tomato is now red in the country, it has become so expensive, it is difficult to buy
इस खबर को शेयर करें

बालोद। महंगाई की चौतरफा मार अब नये अंदाज में आम आदमी का जीना मुश्किल कर रही है। हाल ही में नीबू के भाव आसमान पर पहुंचने के बाद अब टमाटर आंखें लाल कर रहा है। शहर में पिछले एक सप्ताह में टमाटर की कीमतों में जबरदस्त उछाल देखने को मिला। वर्तमान में थोक बाजार में इसकी कीमत 55 से 60 रुपए प्रति किलो के बीच है। जबकि चिल्लर में यह 60-80 रुपए प्रति किलो के बीच बिक रहा है।

अधिक तापमान के कारण कम हुआ उत्पादन

इस बार तापमान ज्यादा होने के कारण टमाटर का उत्पादन कम हुआ है। वहीं दूसरी ओर आपूर्ति कम है। पिछले कुछ दिनों से तेज गर्मी पड़ रही है। गर्मी का असर टमाटर फसल पर देखने को मिल रहा है। तेज गर्मी की वजह से टमाटर का उत्पादन प्रभावित होने के साथ ही फसल भी खराब होने लगी है। टमाटर की फसल पर सालभर मौसम की मार देखने को मिली। बैमौसम बारिश और अंधड़ से टमाटर फसल को नुकसान पहुंचता रहा है वर्तमान में तेज गर्मी की वजह से उसके उत्पादक किसानों को नुकसान उठाना पड़ रहा है।

बाजार में मांग अधिक आवक हुई कम

व्यापारियों के अनुसार अगले कुछ दिनों तक टमाटर के भावों में कमी आने के आसार नहीं के बराबर है। टमाटर की कीमतों में वृद्घि का मूल कारण आवक में कमी है। टमाटर की भारी मांग है और आपूर्ति बेहद कम है। यही कारण है कि टमाटर लाल पर लाल हुआ जा रहा है। अनेक खेती खाली है मात्र 30 प्रतिशत खेतों में ही सब्जियां हो पा रही है। इस कारण शहर में सब्जियों की आवक लोकल से न के बराबर है। अभी जो भी माल आ रहा है वह बाहर से आ रहा है।

डीजल के कारण मालभाड़े पर पड़ा असर

डीजल के कारण बढ़े मालभाड़े का असर सब्जियों के दामों पर भी पड़ रहा है। बाहर से आते आते टमाटर दबने के कारण यह कुछ खराब भी आ रहा है, इस कारण हाथ में अच्छा माल कम आ रहा है। इससे भाव में घट-बढ़ जारी है। इस समय थोक में सबसे कम बैंगन ही मिल रहा है बाकी सभी के दाम ऊंचे चल रहे है। शादियों का सीजन भी होने से टमाटर की डिमांड है।