हनी ट्रैप का शिकार मर्चेंट नेवी में कार्यरत युवक बना पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी का एजेंट, करोड़ों की हुई लेनदेन

Victim of honey trap, a young man working in Merchant Navy became an agent of Pakistani intelligence agency, transactions worth crores were done
Victim of honey trap, a young man working in Merchant Navy became an agent of Pakistani intelligence agency, transactions worth crores were done
इस खबर को शेयर करें

गोरखपुर: पिछले दिनों एटीएस के हत्थे चढ़ा गोरखपुर के पिपराइच थाना क्षेत्र का एक युवक हनी ट्रैप का शिकार हुआ है। ये बात एटीएस की पूछताछ में सामने आई है। बताया जा रहा है कि वह पिछले चार-पांच सालों से पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के संपर्क में था। एटीएस उसे अपने साथ लखनऊ ले गई थी, जहां उससे पूछताछ जारी है। पूछताछ में कई और राज सामने आ सकते हैं।

गुरुवार की रात एटीएस ने पिपराइच थाने की पुलिस के सहयोग से मर्चेंट नेवी में कार्यरत 28 वर्षीय एक युवक को पाकिस्तानी कुश्ती एजेंसी के संपर्क में होने के संदेश पर गिरफ्तार कर पिपराइच थाने लाई थी। जहां 4 घंटे की पूछताछ में कई चौकाने वाली बातें सामने आई है। मिली जानकारी के मुताबिक गोवा की एक शिप पर काम करने वाला यह युवक पिछले चार से पांच वर्षों से आईएसआई के संपर्क में था। गोवा और मुंबई में काम के दौरान पाकिस्तानी मूल की लड़की के संपर्क में आने के बाद आईएसआई से सीधे जुड़ गया था और धीरे-धीरे उसके खाते से फंडिंग का काम भी होने की जानकारी सामने आई है।

महिला के संपर्क के बाद फंसा
पाकिस्तानी महिला के संपर्क में आने के बाद गोवा में कई अन्य महिलाओं से भी उसकी मुलाकात हुई थी। इसके बाद पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी के साथ सीधे तौर से जुड़ा और उसके खाते से पैसे की लेनदेन शुरू हो गई थी। सूत्रों के मुताबिक यह पैसा कहां-कहां भेजे जाते थे और क्या-क्या इसने खुफिया एजेंसी को बताया या भेजा है, एटीएस इसकी जानकारी जुटा रही है। पिपराइच थाने में 4 घंटे की पूछताछ के बाद एटीएस उसे लखनऊ लेकर चली गई थी।

चार महीने पहले आया था गांव
इस बारे में युवक की मां का कहना है कि मुझे उसके पैसे और काम की कोई जानकारी नहीं है। फिलहाल हमारे खेत की जमीन सरकारी प्रोजेक्ट के अंतर्गत आई थी, जिसका मुआवजा लेने के लिए बेटा पिछले 4 महीने पहले गांव आया था। गांव पर मकान बनने के दौरान उसने कुछ पैसे भी मेरे अकाउंट पर भेजे थे, जिससे मकान की छत लगी है। इसके अलावा हमें कुछ नहीं जानकारी यदि उसने कोई भी काम देश के विरोध में किया है तो उसे सख्त सजा मिलनी चाहिए, बता दें कि युवक अपने परिवार का एकलौता है उसके पिता की मृत्यु हो चुकी है। फिलहाल एटीएस की पूछताछ जारी है, और भी कई चौकाने वाले खुलासे सामने आ सकते हैं।

महाराजगंज से पकड़ा गया था एक अन्य
आपको बता दें कि इस तरह का यह पहला केस नहीं है, 15 दिनों पहले ही महाराजगंज का एक युवक ऐसे ही एक मामले में पकड़ा गया था। गोरखपुर का तारिक भी हनी ट्रैप का शिकार होकर 2023 में पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी से जुड़ा था। तारीक ने भी कई खुफिया बातें और तस्वीरें पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी को भेजी थी। एटीएस ने गिरफ्तार कर उसके खिलाफ जांच शुरू की थी। तारिक भी पाकिस्तानी महिला के संपर्क में आने के बाद आईएसआई से जुड़ा था।