74 शतक ठोकने वाले Virat Kohli ने अचानक इस बयान से मचाया तहलका, बोले…

IND vs SL, 2023: 74 इंटरनेशनल शतक ठोकने वाले विराट कोहली ने वो राज खोल ही दिया है, जिसकी वजह से वह एक के बाद एक शतक ठोकते जा रहे हैं. विराट कोहली ने रविवार को श्रीलंका के खिलाफ तीसरे वनडे मैच में नाबाद 166 रनों की पारी खेलकर ऐसी तबाही मचाई कि हर कोई हैरान रह गया. विराट कोहली ने अपनी इस पारी में 13 चौके और 8 छक्के लगाए.

Virat Kohli, who hit 74 centuries, suddenly created panic with this statement, said...
Virat Kohli, who hit 74 centuries, suddenly created panic with this statement, said...
इस खबर को शेयर करें

Virat Kohli: इंटरनेशनल क्रिकेट में रिकॉर्ड 74 शतक ठोक चुके टीम इंडिया के स्टार बल्लेबाज विराट कोहली ने अपने एक बयान से तहलका मचा दिया है. विराट कोहली साल 2023 की शुरुआत से ही बेहद घातक फॉर्म में चल रहे हैं. दुनिया के बेस्ट बल्लेबाज विराट कोहली अपने आखिरी चार वनडे मैचों में तीन शतक ठोक चुके हैं, जिससे उनकी कातिलाना फॉर्म का अंदाजा लगाया जा सकता है. विराट कोहली ने रविवार को श्रीलंका के खिलाफ तीसरे वनडे मैच में नाबाद 166 रनों की पारी खेलकर ऐसी तबाही मचाई कि हर कोई हैरान रह गया. विराट कोहली ने अपनी इस पारी में 13 चौके और 8 छक्के लगाए.

74 शतक ठोकने वाले कोहली ने अचानक इस बयान से मचाया तहलका

श्रीलंका के खिलाफ तीन मैचों की वनडे सीरीज में विराट कोहली ने दो शतकों की मदद से 283 रन बनाए हैं, जिसके लिए उन्हें मैन ऑफ द सीरीज चुना गया है. विराट कोहली के वनडे में 46 शतक, टेस्ट में 27 शतक और टी20 इंटरनेशनल में 1 शतक हैं. कुल मिलाकर विराट कोहली के नाम इंटरनेशनल क्रिकेट में 74 शतक ठोकने का रिकॉर्ड है. 74 इंटरनेशनल शतक ठोकने वाले विराट कोहली ने वो राज खोल ही दिया है, जिसकी वजह से वह एक के बाद एक शतक ठोकते जा रहे हैं. विराट कोहली ने अपनी घातक फॉर्म का क्रेडिट डी राघवेंद्र, नुवान सेनेविरत्ने और दयानंद गरानी की थ्रोडाउन तिकड़ी को दिया है.

इन्हें दिया अपनी घातक फॉर्म का क्रेडिट

नेट्स पर टीम इंडिया के बल्लेबाजों को अभ्यास कराते समय थ्रोडाउन विशेषज्ञ लंबे चम्मच जैसे एक क्रिकेट उपकरण की मदद से गेंद को तेज गति से (140-150 किमी प्रति घंटे की सीमा में) फेंकते हैं. विराट कोहली ने कहा, ‘इन तीनों ने हमें वर्ल्ड क्लास लेवल का अभ्यास कराया है. वे नेट्स पर 145 या 150 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से गेंदबाजी करने वाले तेज गेंदबाजों की तरह हमारी परीक्षा लेते हैं. वे हमेशा हमें आउट करने की कोशिश करते हैं और यह सुनिश्चित करते हैं कि वे नियमित रूप से हमारी परीक्षा लें.’

करियर में बड़ा अंतर पैदा किया

विराट कोहली ने कहा, ‘कभी-कभी यह काफी कड़ा लगता है. ईमानदारी से कहूं तो मेरे लिए यह करियर में अंतर रहा है. मैं एक क्रिकेटर के रूप में इस तरह का अभ्यास शुरू करते समय जहां था और अब मैं जहां हूं.’ ‘रघु’ के नाम से पहचाने जाने वाले कर्नाटक के राघवेंद्र राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी से बीसीसीआई से जुड़े और टीम इंडिया में सबसे पहले आए. वह नियमित रूप से दिग्गज बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर और पूर्व भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को थ्रोडाउन का अभ्यास कराते थे. भारत ने 2018 में श्रीलंका के बाएं हाथ के सेनेविरत्ने को टीम से जोड़ा जिससे कि बाएं हाथ के तेज गेंदबाजों के खिलाफ तैयारी की जा सके.

इन लोगों ने काफी मेहनत की

कोलकाता पुलिस में स्वयंसेवक दयानंद किंग्स इलेवन पंजाब के साथ थे लेकिन 2020 में रघु के कोविड-19 पॉजिटव पाए जाने के बाद उन्हें टीम इंडिया के साथ जोड़ा गया और वह तब से सहयोगी स्टाफ के स्थाई सदस्य हैं. कोहली ने कहा, ‘इन लोगों को काफी श्रेय जाता है, जिन्होंने हमें नियमित अभ्यास कराया और उनका योगदान अविश्वसनीय रहा है. आप लोगों को उनके नाम और चेहरे याद रखने चाहिए क्योंकि हमारी सफलता के पीछे इन लोगों ने काफी मेहनत की है.’

विराट कोहली का कहर है जारी

भारत ने अंतिम वनडे मैच में श्रीलंका को 317 रन से हराकर सीरीज 3-0 से अपने नाम की जिसमें कोहली ने तीन मैच में दो शतक लगाए. कोहली ने कहा, ‘यह एक शानदार शुरुआत रही है. काफी समय हो गया है जब मैंने इस तरह से साल की शुरुआत की थी. एक शतक बनाया और फिर सीरीज में दो शतक बनाए और मैं सीरीज का सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी भी रहा. मैं बस इस बात से खुश हूं कि वर्ल्ड कप के साल में मैं इस तरह से शुरुआत करने में सफल रहा और मुझे पता है कि मैं लगातार ऐसा प्रदर्शन कर सकता हूं. जब मैं इस तरह से शुरुआत करता हूं और मैं आत्मविश्वास महसूस करने लगता हूं, फिर चीजें आम तौर पर अच्छी होती हैं.’