तुमसे हिसाब चुकता करना था; सेना के जवान की पत्नी से चार लड़कों ने किया गैंगरेप

इस खबर को शेयर करें

नामकुम. झारखंड में चार दरिंदों ने सेना के एक जवान की पत्नी को हवस का शिकार बनाया। एक आरोपी पहले से पीड़िता के घर में छिपा हुआ था। रात में जवान की पत्नी अपने दो छोटे-छोटे बच्चों के साथ सोई थी। अचानक 12 बजे उसने कमरे में चारों लड़कों को देखा। आरोपियों ने पीड़िता के बच्चों को जान से मारने की धमकी दी। उन्होंने बताया कि कुछ दिनों पहले तुम्हारी बहन भी यहां आई थी। हमलोग चाहते तो उसका भी यही हाल करते लेकिन हमें तुमसे हिसाब चुकता करना था। इसके बाद लड़कों ने पीड़िता से गैंगरेप किया। यह नामकुम इलाके की घटना है। पीड़िता के पति लद्दाख में तैनात हैं। पुलिस ने केस दर्ज कर चार युवकों को हिरासत में ले लिया है।

गैंगरेप के बाद तोड़ दिए मोबाइल
पीड़िता कोकर में किराए के मकान में रहती है, पर 10 दिन से खरसीदाग में रहकर घर बनवा रही है। सोमवार रात 8 बजे वह पानी लेने बाहर गई तो एक युवक उसके घर में आकर छिप गया। रात में खाना खाने के बाद पीड़िता दरवाजा बंद कर सो गई। रात 12 बजे अचानक घर का दरवाजा खुला तो उसकी नींद खुली। उसने कमरे में चार युवकों को देखा। चारों युवकों ने तीन माह की बेटी और छह साल के बेटे को जान मारने की धमकी देकर महिला से सामूहिक दुष्कर्म किया। सुबह युवकों ने उसका मोबाइल तोड़ दिया और धमकी देते हुए भाग गए।

घर बनाने के दौरान युवकों से महिला का हुआ था विवाद
बताया जाता है कि पीड़िता के जमीन लेने के बाद बोरिंग कराने और घर बनाने के दौरान स्थानीय युवकों से विवाद हुआ था। वहीं युवकों का कहना था कि बोरिंग कराने और घर बनाने का ठेका उन्हें दिया जाए क्योकि वे लोग स्थानीय हैं। ऐसे में काफी विवाद के बाद पीड़िता के पति ने स्थानीय युवकों को घर बनाने का ठेका दे दिया था। वहीं निर्माण के दौरान पिलर टेढ़ा-मेढ़ा बनाने के बाद जवान ने उनसे काम वापस लेकर दूसरे ठेकेदार को निर्माण कार्य का ठेका दे दिया था।

तुमसे हिसाब चुकता करना था
इसके बाद युवकों से सेना के जवान का काफी विवाद भी हुआ था। पीड़िता ने बताया कि रात में दुष्कर्म के दौरान सभी अपराधी काफी गुस्से में थे। आरोपियों ने उससे कहा कि कुछ दिनों पहले तुम्हारी बहन यहां रह रही थी। हम चाहते तो उसका भी यही हाल कर देते। लेकिन हमें तुमसे हिसाब चुकता करना था न कि तुम्हारी बहन से। इसलिए हम लोगों ने उसे छोड़ दिया। पीड़िता ने बताया कि कुछ दिनों पहले उसकी छोटी बहन इसी घर में रहने आई थी।

घटना के बाद सुबह में पीड़िता की बहन ने उसे फोन किया, लेकिन फोन नहीं लगा। इसके बाद उसने परिचित को वहां उसे देखने के लिए भेजा। तब मामले की जानकारी हुई। इसके बाद पुलिस को सूचना दी गई। इस संबंध में ग्रामीण एसपी अमित कुमार अग्रवाल ने कहा कि आरोपियों की तलाश में छापेमारी की जा रही है। कुछ संदिग्ध हिरासत में लिए गए हैं।