Weather Update: वीकेंड के बाद छुट्‌टी पर गई बारिश? मौसम विभाग की चेतावनी, हो सकता है ऐसा हाल

Weather News: लगातार भारी बारिश के कारण कई प्रदेशों में बुरा हाल है तो आम जनजीवन पर बड़ा असर पड़ा है. वहीं दिल्ली-NCR में अगले कुछ दिन मौसम पलटने का अनुमान लगाया गया है. IMD ने पूरे देश में बारिश को लेकर जो अलर्ट जारी किया है आइए उसके बारे में बताते हैं.

Weather Update: After the weekend, it rained on the holiday? Meteorological Department's warning, it may be like this
Weather Update: After the weekend, it rained on the holiday? Meteorological Department's warning, it may be like this
इस खबर को शेयर करें

नई दिल्ली: राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में आज लोगों को मौसम के बदलते हुए मिजाज का सामना करना पड़ेगा. मौसम विभाग (IMD) के मुताबिक अगले कुछ दिन तक यहां बारिश की उम्मीद कम ही जताई गई है. हालांकि यहां बादल तो आते जाते रहेंगे लेकिन बारिश न के बराबर होने का अनुमान लगाया गया है. वहीं दूसरी ओर राजस्थान में जयपुर से लेकर जोधपुर तक हल्की से लेकर मूसलाधार बारिश का दौर जारी है. मौसम एजेंसी स्काई मेट वेदर की मानें तो अगले 24 घंटों के दौरान, तटीय कर्नाटक, विदर्भ, मराठवाड़ा, कोंकण और गोवा के कुछ हिस्सों, दक्षिण राजस्थान, मध्य प्रदेश और पूर्वी गुजरात में हल्की से मध्यम बारिश के साथ कुछ स्थानों पर भारी बारिश हो सकती है.

दिल्ली में हो सकता है ऐसा हाल
मौसम विभाग के अनुमान के मुताबिक एक बार दिल्ली और आस-पास रहने वालों को पहले जैसी गर्मी और उमस के हालातों का सामना करना पड़ेगा. एनसीआर में बारिश जैसी स्थिति कम ही बन पाने के कारण एनसीआर के किसानों की हालत खराब हो रही है. ऐसा इसलिए क्योंकि मानसून (Monsoon) की बारिश पश्चिमी उत्तर प्रदेश में सामान्य की तरफ बढ़ रही है. सबसे खराब हालात गाजियाबाद और नोएडा महानगर के हैं. गाजियाबाद में अभी तक 82.5 mm बारिश हुई है. जो सामान्य से 67% कम है. वहीं नोएडा में अबतक नाम मात्र की यानी ओवरआल 76mm बारिश ही हुई है. यह सामान्य से 69% कम है.

सूखा मौसम रहने का अनुमान
ताजा पूर्वानुमान के मुताबिक के मुताबिक दिल्ली में सोमवार को सूखा मौसम रहने की उम्मीद है. मौसम विभाग (IMD) के डीजी मृत्युंजय महापात्रा ने कहा कि क्लाइमेट चेंज की वजह से मौसम की सटीक भविष्यवाणी पर असर पड़ा है. जलवायु परिवर्तन की घटनाओं से कई जगहों पर भारी बारिश के मामले बढ़े हैं, जबकि हल्की बारिश में कमी दर्ज की गई है. दिल्ली में सोमवार को मौसम साफ होने का अनुमान जताया है. हालांकि, आसमान में बादल तो आएंगे-जाएंगे लेकिन, बारिश की संभावना सिर्फ 10% जताई गई है. आंशिक बादल और 100% ह्यूमिडिटी के कारण दिन में धूप निकलने की स्थिति में तापमान से अधिक गर्मी का अहसास होगा. हवाओं के बंद होने से अधिक परेशानी हो सकती है. दिन का अधिकतम तापमान 34 डिग्री रहने का अनुमान लगाया गया है. मौसम विभाग के अनुसार, राजधानी दिल्ली में तीन दिन बाद यानी 11 अगस्त को एक बार फिर तेज और झमाझम बारिश होने का अनुमान जताया गया है.

देश के मौसम का हाल
ओडिशा (Odisha rain alert) के कुछ हिस्सों में रविवार को भारी बारिश हुई और बंगाल की खाड़ी के ऊपर बने दबाव क्षेत्र के कारण राज्य में अगले तीन दिन के दौरान और बारिश होने का अनुमान है. राजस्थान के पूर्वी और पश्चिमी हिस्सों में बीती 24 घंटों के दोरान हल्की से मध्यम दर्जे की बारिश दर्ज की गई. मौसम विभाग ने आगामी तीन दिनों में कई जिलों में भारी बारिश का यलो अलर्ट जारी किया है. बिहार में मौसम (Bihar Weather Update) लगातार करवट लेता जा रहा है. भीषण गर्मी के बाद कुछ दिनों तक बारिश ने लोगों को राहत दी. लेकिन फिर एकबार मानसून कमजोर पड़ने लगा है. प्रदेश में अब बारिश के आसार अगले कुछ दिनों तक बेहद कम हैं वहीं उमस ने फिर से लोगों को परेशान करना शुरू कर दिया है. फिलहाल राजधानी पटना समेत प्रदेश के अन्य जगहों पर बारिश अभी रूक गयी है. किसानों को फिर से मायूस होना पड़ रहा है. वहीं आईएमडी ने कहा है कि इस साल मॉनसून की सुस्त शुरुआत के बावजूद महाराष्ट्र में जून और जुलाई के महीनों में सामान्य से 27% अधिक बारिश हुई है.

अर्बन हीट आईलैंड से बिगड़ी स्थिति
वहीं सोमवार को नोएडा और गाजियाबाद में दिन में बादल छाए रहने का अनुमान है. पिछले दिनों हुई बारिश का असर अभी दिखेगा. वेदर एक्सपर्ट्स के मुताबिक पश्चिमी यूपी और उसमें भी खासकर नोएडा और गाजियाबाद में कई जगह पर हीट आईलैंड (Urban Heat Island) की स्थिति लगातार बनती रहती है. कहीं तापमान ज्यादा तो कहीं बहुत कम इसी को अर्बन हीट आइलैंड कहते हैं. कंक्रीट की बिल्डिंग, मल्टीस्टोरी अपार्टमेंट्स जहां कम जगह में ज्यादा लोग रहते हैं, वहां एसी से निकलने वाली गर्मी, वाहनों की गर्मी और आबादी का ज्यादा घनत्व, ये सब मिलाकर अर्बन हीट आइलैंड बनाते हैं. हीट आईलैंड की वजह से मॉनूसनी हवाओं को नमी नहीं मिलती और बारिश नहीं कर पाती हैं. यानी अगर ऐसे इलाकों के आसपास कोई झील या नहर हो तो वहां का तापमान बाकी जगहों की तुलना में 2 से 4 डिग्री तक कम रहेगा.