क्या इस बार लाल किले पर बुलेटप्रूफ बॉक्स में खड़े होकर भाषण देंगे पीएम मोदी? इस तस्वीर से उठे सवाल

75th Independence Day: लोगों से सीधे जुड़ने के लिए पीएम मोदी ने साल 2014 में शपथ लेने के बाद कभी भी बुलेट प्रूफ बॉक्स में भाषण नहीं दिया. पूर्व पीएम इंदिरा गांधी की हत्या के बाद सभी प्रधानमंत्री बुलेट प्रूफ बॉक्स में ही भाषण देते थे. यह एक परंपरा बन गई थी.

Will PM Modi give a speech this time standing in a bulletproof box at Red Fort? question raised by this picture
Will PM Modi give a speech this time standing in a bulletproof box at Red Fort? question raised by this picture
इस खबर को शेयर करें

Independence Day 2022: देश आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है. देश को अंग्रेजी हुकूमत से आजादी मिले 75 साल होने जा रहे हैं. इस बार भी पीएम नरेंद्र मोदी लालकिले की प्राचीर से देश को संबोधित करेंगे. तैयारियां जोरो-शोरों से चल रही हैं. पीएम नरेंद्र मोदी हर बार बिना किसी बुलेट प्रूफ बॉक्स के भाषण देते हैं. स्पीच देने के बाद वह प्रोटोकॉल तोड़कर बच्चों से भी मुलाकात करते हैं.

क्या इस बार बदलेगी परंपरा?
नरेंद्र मोदी से पहले प्रधानमंत्री अकसर बुलेट प्रूफ बॉक्स में ही भाषण दिया करते थे. लेकिन पीएम बनने के बाद पीएम मोदी ने बिना किसी सुरक्षा चक्र के भाषण देने की परंपरा शुरू की. लेकिन क्या इस बार कुछ अलग देखने को मिलेगा? क्या पीएम मोदी बुलेट प्रूफ बॉक्स में खड़े होकर देश को संबोधित करेंगे? एक तस्वीर सामने आने के बाद ये कयास लगाए जा रहे हैं. न्यूज एजेंसी पीटीआई की ओर से आज एक तस्वीर जारी की गई है, जिसमें कर्मचारी लालकिले की प्राचीर पर बुलेट प्रूफ बॉक्स लगा रहे हैं. इसलिए ये अटकलें लग रही हैं कि क्या पीएम मोदी इस बार भाषण बुलेट प्रूफ बॉक्स में देंगे.

लोगों से सीधे जुड़ने के लिए पीएम मोदी ने साल 2014 में शपथ लेने के बाद कभी भी बुलेट प्रूफ बॉक्स में भाषण नहीं दिया. पूर्व पीएम इंदिरा गांधी की हत्या के बाद सभी प्रधानमंत्री बुलेट प्रूफ बॉक्स में ही भाषण देते थे. यह एक परंपरा बन गई थी. 1985 में सबसे पहले पूर्व पीएम राजीव गांधी ने बुलेट प्रूफ बॉक्स में खड़े होकर स्पीच दी थी. साल 1990 में तत्कालीन पीएम वीपी सिंह ने हाफ बॉक्स का विकल्प चुना. लेकिन पीवी नरसिम्हा राव के लिए फिर फुल बॉक्स का विकल्प चुना.

इस बार ऐसी हैं सुरक्षा की तैयारियां
75वें स्वतंत्रता दिवस को देखते हुए 15 अगस्त पर लालकिले की सुरक्षा 10000 पुलिस जवानों के हाथों में होगी. दिल्ली पुलिस का कहना है कि सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं.