मुजफ्फरनगर में मार्ग के नामकरण को लेकर ग्रामीणों और राष्ट्रीय सैनिक संस्था की बैठक

मार्ग के नामकरण को लेकर लोगों के बीच गुस्सा बढ़ रहा है। पचैंडा मुस्तफाबाद में आयोजित पंचायत में ग्रामीणों और राष्ट्रीय सैनिक संस्था ने कहा कि शहीदों का अपमान बर्दाश्त नहीं करेंगे।

Meeting of villagers and Rashtriya Sainik Sanstha regarding the naming of the route in Muzaffarnagar
Meeting of villagers and Rashtriya Sainik Sanstha regarding the naming of the route in Muzaffarnagar
इस खबर को शेयर करें

मुजफ्फरनगर। मार्ग के नामकरण को लेकर लोगों के बीच गुस्सा बढ़ रहा है। पचैंडा मुस्तफाबाद में आयोजित पंचायत में ग्रामीणों और राष्ट्रीय सैनिक संस्था ने कहा कि शहीदों का अपमान बर्दाश्त नहीं करेंगे। गुरुनानक देव सबके लिए पूजनीय है। कुछ राजनीतिक लोग समाज को बांटना चाहते हैं, जिसका विरोध किया जाएगा।

शुक्रवार को पचैंडा में आयोजित पंचायत की अध्यक्षता पूर्व प्रधान चरण सिंह ने की। राष्ट्रीय सैनिक संस्था के प्रदेश अध्यक्ष कैप्टन सुरेश चंद त्यागी ने कहा कि जनप्रतिनिधियों का कार्य समाज को जोड़ने और साथ लेकर चलने का होना चाहिए। कौशल विकास राज्यमंत्री कपिल देव अग्रवाल ने सड़क का नाम बिना किसी प्रस्ताव के बदलकर शहीद का अपमान किया। पूर्व सैनिक संघर्ष का रास्ता अपनाएंगे और पीछे नहीं हटेंगे। मंत्री चाहे तो पूरी गांधी कॉलोनी का नाम गुरुनानक देव के नाम पर रख लें, इससे हमें कोई एतराज नहीं है। लेकिन मार्ग का नाम शहीद बचन सिंह के नाम पर ही रहना चाहिए। ग्रामीणों से एकजुटता का संकल्प लिया और आंदोलन के लिए तैयार रहने के लिए कहा। जिलाध्यक्ष सूबेदार अशोक कुमार, जिला महामंत्री प्रमेंद्र राठी, कोषाध्यक्ष जयप्रकाश त्यागी, कमलेश चौहान, जयपाल सिंह, राजकुमार, सुनील कुमार, ईशम सिंह, मोनिका, अमरपाल, अर्जुन पहलवान, जसवीर सिंह, बालिंद्र सिंह मौजूद रहे।

विधायक प्रदीप बालियान ने कराया था नामकरण
मार्ग के लिए 22 दिसंबर 1999 को तत्कालीन विधायक प्रदीप बालियान ने डीएम और पालिका को प्रस्ताव भेजा था। उनके प्रस्ताव पर 28 फरवरी 2000 को पालिका बोर्ड बैठक में मार्ग का नाम शहीद बचन सिंह के नाम रखने पर अंतिम मुहर लगी थी।