अलर्ट : जानिए घर में कितना कैश रखने की है छूट, ये हैं नियम

Cash Limit Rule : टैक्स चोरी जैसी जो समस्याएं हैं। उस समस्याओं को दूर करने के लिए भारत में कैश पजेशन और ट्रांजेक्शन पर कई सारे नियम है। एक जो साधारण सवाल क्या है। आप घर पर कितने पैसे रख सकते है।

Alert: Know how much cash is allowed to be kept at home, these are the rules
Alert: Know how much cash is allowed to be kept at home, these are the rules
इस खबर को शेयर करें

Cash Limit Rule : टैक्स चोरी जैसी जो समस्याएं हैं। उस समस्याओं को दूर करने के लिए भारत में कैश पजेशन और ट्रांजेक्शन पर कई सारे नियम है। एक जो साधारण सवाल क्या है। आप घर पर कितने पैसे रख सकते है। घर पर पैसे रखने की कोई सीमा होती हैं क्या। कैश घर पर रखना दो चीजे है। उस पर निर्भर करता है, उसमें पहली चीज यह है। कि आपकी आर्थिक क्षमता कितनी है। दूसरी है आपकी लेनदेन करने की आदत है। यदि आपके पास बड़ी राशि हैं और उसको आप घर पर रखते हैं, तो फिर हम आपको बता दे। कि ऐसा कोई भी नियम नहीं है। कि आप घर पर एक सीमा में ही कैश रख सकते है। ऐसा कोई भी नियम नहीं है। कि आपको एक सीमा के भीतर घर पर कैश रखने के लिए बाध्य रखता है। यदि आप ज्यादा पैसे घर पर रखने के लिए सक्षम है, तो फिर आपकी जितनी इच्छा हैं। उतने पैसे को अपने घर पर रख सकते है। मगर एक बात है। कि आपको इस चीज हो हमेशा ही याद रखना बहुत जरूरी है। कि आपके पास जो पैसे है उसका आपके पास पूरा हिसाब होना चाहिए। आपकी जो कमाई है उस कमाई को आपने कहा से कमाया है और आपने जो कमाई है। उस पर टैक्स दिया है या टैक्स नहीं दिया हैं।

137 प्रतिशत तक टैक्स लगाया जा सकता है
इनकम टैक्स के नियम के अनुसार, आप घर में जो कैश है उसको कितना भी रख सकते हैं। यदि किसी कारण आप जांच एजेंसी के पकड़ में आते है, तो फिर आपको इस कैश का जो सोर्स है उस का आपको सबूत देना होगा। अगर आप इस कैश का जो सोर्स है उसको नही बता पाते हैं, तो फिर आपके खिलाफ कार्यवाही की जा सकती है। जो नोटबंदी हुई थी। उसके बाद इनकम टैक्स विभाग की तरफ से कहा गया था। कि यदि आपके घर में अनडिस्क्लोज कैश है। वो मिलता है, तो फिर आपके पास से मिले गये जितने भी पैसे होंगे। उस कुल पैसे का 137 प्रतिशत टैक्स लगाया जा सकता है।

ये जानना बहुत आवश्यक कैश लेनदेन पर लिमिट होती है
जो केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड हैं उसके नियमों के अनुसार, एक बार 50 हजार रु से अधिक के कैश को विदड्रॉल करते है या फिर डिपॉजिट करते है, तो फिर आपको पैन कार्ड दिखाना होता हैं। अगर कोई व्यक्ति है। वो 1 वर्ष में 20 लाख रु से अधिक का कैश को डिपॉजिट करता है, तो फिर उसको अपना पैनकार्ड और आधार कार्ड को दिखाना होता है। अगर व्यक्ति ऐसा नहीं करता हैं, तो फिर उसको जुर्माना देना पड़ सकता है और ये जो जुर्माने की राशि हैं। वो 20 लाख रु तक हो सकती हैं। अगर व्यक्ति 1 वर्ष में 1 करोड़ रूपये से अधिक कैश बैंक से निकालता हैं, तो फिर उस व्यक्ति को इसके लिए 2 प्रतिशत टीडीएस भरना होगा।

इन बातों को भी जानना जरूरी
1 वर्ष में 20 लाख रु से अधिक के कैश ट्रांजेक्शन है उस पर जुर्माना लग सकता है। 30 लाख रु से अधिक की अगर कैश प्रॉपर्टी खरीदते या बिक्री करते है, तो फिर उस पर जांच बैठ सकती है। अगर आप कुछ भी चीज़ों को खरीदते है, तो फिर आप केवल 2 लाख रु तक का ही कैश पेमेंट कर सकते है उससे अधिक का आप कैश पेमेंट नही कर सकते है। अगर आप कैश पेमेंट करते है, तो फिर आप अपना पैन कार्ड और आधार कार्ड दिखाना होगा। आपका जो डेबिट और क्रेडिट कार्ड है। उस कार्ड पर एक बार में 1 लाख रु से अधिक के जो ट्रांजेक्शन हैं। उस ट्रांजेक्शन पर जांच हो सकती है। आप आपका कोई भी रिश्तेदार हो आप उससे 1 दिन में 2 लाख रु से अधिक जो राशि है उस राशि को कैश में नहीं के सकते है, अगर आपको उन से 2 लाख रु या फिर उससे अधिक की राशि लेना है, तो फिर आपको उसके लिए काम को बैंक की सहायता से करना होगा। आप कोई भी जो व्यक्ति है। उस व्यक्ति से लोन 20 हजार से अधिक कैश के रूप में नहीं ले सकते है। इतना ही नहीं अगर आपको डोनेशन देना हैं, तो फिर आप उसको भी 2000 रु से अधिक कैश में नहीं दे सकते है।