दीवाल पर पेशाब करने पर महिला ने टोका, फिर हुआ कुछ ऐसा कि रूह कांप जाए

मयंक के दोस्त विकास पंवार ने पुलिस को बताया कि वे दोनों मालवीय नगर के किला बेगमपुर में बैठे थे, तभी कुछ लोग वहां आ पहुंचे। उन लोगों की मयंक के साथ बहस हुई। भागने की कोशिश की लेकिन लोगों ने मयंक का पीछा किया...

The woman stopped after urinating on the wall, then something happened that the soul trembled
The woman stopped after urinating on the wall, then something happened that the soul trembled
इस खबर को शेयर करें

नई दिल्ली। दक्षिणी दिल्ली के बेगमपुर इलाके में दीवार पर पेशाब करने को लेकर दोनों पक्षों के बीच हुई बहस में एक व्यक्ति की हत्या कर दी गई। मना करने पर चार लोगों ने युवक के साथ मारपीट की और उसे चाकू मारकर हत्या कर दी। पुलिस ने इस मामले में चार आरोपियों को अरेस्ट कर लिया है। इस वारदात के बाद क्षेत्र में सनसनी फैल गई।

चारों आरोपियों की हुई पहचान
मृतक की पहचान शाहपुर जाट के मयंक पंवार के रूप में हुई है। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि आरोपियों की पहचान कालू सराय के मनीष (19), सावित्री नगर के राहुल (19) के अलावा बेगमपुर के रहने वाले आशीष तंवर (20) और सूरज (19) के रूप में हुई है। पुलिस ने बताया कि गुरुवार को बेगमपुर के डीडीए मार्केट के गेट नंबर 3 के पास एक व्यक्ति को चाकू मारने की सूचना पुलिस को मिली। पीड़ित को एम्स ट्रॉमा सेंटर ले जाया गया, जहां उनकी मौत हो गई।

दोस्त ने बताई पूरी बात, क्या हुआ था उस दौरान
मयंक के दोस्त विकास पंवार ने पुलिस को बताया कि वे दोनों मालवीय नगर के किला बेगमपुर में बैठे थे, तभी कुछ लोग वहां आ पहुंचे। उन लोगों की मयंक के साथ बहस हुई। तल्ख बहस के बाद वे लोग चले गए लेकिन कुछ ही देर बाद वापस लौट आए और उन पर पथराव किया। उन्होंने कहा कि मयंक और विकास ने भागने की कोशिश की लेकिन लोगों ने मयंक का पीछा किया और मयंक को पकड़कर चाकू मार दिया। जांच के दौरान पुलिस ने इलाके के सीसीटीवी फुटेज खंगाले। उन्होंने कहा कि सीसीटीवी फुटेज और स्थानीय खुफिया जानकारी की मदद से आरोपियों की पहचान की गई।

मनीष भाग गया अपने चाचा के घर
पुलिस उपायुक्त (दक्षिण) बेनिता मैरी जैकर ने कहा कि हमले के बाद मनीष भागकर अपने चाचा के यहां बवाना चला गया और अन्य आरोपी बेगमपुर में अपने दोस्त के घर छिप गए। बाद में, उन सभी को गिरफ्तार कर लिया गया। आरोपियों ने पुलिस को बताया कि वे किला बेगमपुर के पास शराब पी रहे थे और मयंक एक दीवार पर पेशाब कर रहे थे। मनीष की मां ने इसका विरोध किया तो मयंक ने गाली-गलौज की। मनीष ने बीच-बचाव किया और मयंक को गालियां दीं, जिसके बाद मयंक ने उसे थप्पड़ मार दिया।

डीसीपी ने कहा कि बाद में मनीष ने अपने दोस्तों को बुलाया और उन्होंने मयंक और विकास पर पथराव करना शुरू कर दिया जिन्होंने भागने की कोशिश की। हालांकि, आरोपी ने पीछा किया और मयंक को काबू में कर लिया, जिसे मनीष ने कई बार पेट में छुरा घोंपा।