उत्तराखंड में मौसम ने लिया करवट, इन जिलों में होगी झमाझम बारिश

मौसम विभाग ने गुरुवार से प्रदेश में मौसम शुष्क रहने का अनुमान लगाया है। हालांकि शुक्रवार से कुछ पर्वतीय जिलों में हल्की से हल्की बारिश हो सकती है, अधिकांश इलाकों में 26 तक मौसम शुष्क रहेगा।

Weather has taken a turn in Uttarakhand, there will be rain in these districts
Weather has taken a turn in Uttarakhand, there will be rain in these districts
इस खबर को शेयर करें

देहरादून: मौसम विभाग ने गुरुवार से प्रदेश में मौसम शुष्क रहने का अनुमान लगाया है। हालांकि शुक्रवार से कुछ पर्वतीय जिलों में हल्की से हल्की बारिश हो सकती है, अधिकांश इलाकों में 26 तक मौसम शुष्क रहेगा। मौसम विभाग के मुताबिक अगले चार दिनों तक राज्य में मौसम को लेकर कोई अलर्ट नहीं है। गुरुवार को प्रदेश में मौसम शुष्क बना रहेगा।

वहीं 24 को चमोली, बागेश्वर, पिथौरागढ़ में कहीं कहीं बहुत हल्की से हल्की बारिश, गर्जन के साथ बारिश हो सकती है। 25 को उत्तरकाशी, चमोली, पिथौरागढ़ में कहीं कहीं बहुत हल्की से हल्की बारिश, गर्जन के साथ बारिश की संभावना है। 26 को कुमाऊं मंडल के कुछ जिलों में हल्की से मध्यम बारिश, गर्जन के साथ बारिश हो सकती है। इन तीनों दिन प्रदेश के शेष हिस्सों में मौसम शुष्क रहेगा। 26 के बाद प्रदेश में बारिश में तेजी आने का अनुमान है।

जून में पिछले साल के मुकाबले कम बरसे बदरा
प्रदेश में जून में अभी तक सामान्य से 58 फीसदी कम बारिश दर्ज की गई है। जबकि वर्ष 2021 में जून माह में 262.9 एमएम बारिश(48 फीसदी) हुई थी। इस साल जून माह में अभी तक सिर्फ 45.7 एमएम बारिश ही हुई है। अभी तक सभी जिलों में सामान्य से काफी कम बारिश हुई है। जिसमें अल्मोड़ा, चम्पावत, देहरादून, पौड़ी, हरिद्वार, नैनीताल, उधमसिंहनगर आदि जिलों में स्थिति काफी खराब है।

देहरादून में तापमान में फिर आएगा उछाल
मौसम विभाग के अनुसार दून के तापमान में एक बार फिर बढोत्तरी की संभावना है। गुरुवार को आसमान मुख्यत: साफ रहेगा। अधिकतम तापमान 34 व न्यूनतम तापमान 21 डिग्री सेल्सियस जा सकता है। बुधवार को दून में अधिकतम तापमान 33.9 व न्यूनतम 20.3 डिग्री सेल्सियस रहा। मौसम विभाग ने दून में 26 जून तक आसमान मुख्यत: साफ रहने का अनुमान लगाया है। इस दौरान तापमान में वृद्धि होगी। 27 की शाम से मौसम में कुछ बदलाव आने की संभावना दिख रही है, जिससे तापमान में एक बार फिर कमी आ सकती है।