BIG NEWS: मुजफ्फरनगर पहुंचे ADG जोन, कयामपुर, डकैती की ली जानकारी

ADG जाेन मेरठ राजीव सभरवाल ने गांव कयामपुर पहुंचकर डकैती की घटना की जानकारी ली। उन्होंने पीड़ित गृह स्वामी से अलग-अलग पूछताछ कर हालात का जायजा लेते हुए मौके का भी मुआयना किया।

BIG NEWS: ADG Zone reached Muzaffarnagar, Kayampur, got information about the robbery
BIG NEWS: ADG Zone reached Muzaffarnagar, Kayampur, got information about the robbery
इस खबर को शेयर करें

मुजफ्फरनगर। ADG जाेन मेरठ राजीव सभरवाल ने गांव कयामपुर पहुंचकर डकैती की घटना की जानकारी ली। उन्होंने पीड़ित गृह स्वामी से अलग-अलग पूछताछ कर हालात का जायजा लेते हुए मौके का भी मुआयना किया। एडीजी जोन ने भरोसा दिलाया कि शीघ्र ही मामले का राजफाश कर आरोपितों को दबोच लिया जाएगा।

चरथावल थाना क्षेत्र के गांव कयामपुर निवासी फर्जंद के घर में 21 मई को बदमाशों ने डकैती डाली थी। फर्जंद की पत्नी तैमुरन ने बताया था कि करीब 15 बदमाशों ने घर के बाहर सो रहे उसके पति को रात एक बजे के करीब हथियरों के बल पर अपनी गिरफ्त में ले लिया था। तैमुरन ने बताया था कि सभी बदमाश दरवाजा खुलवाकर भीतर प्रवेश कर गए थे तथा परिवार के एक-एक सदस्य को हथियारों से डराकर बांध दिया था। जिसके बाद परिवार की कई महिलाओं के गहने आदि अपने कब्जे में ले लिये थे। इस दौरान बदमाशों ने उसके पति तथा बेटों से मारपीट भी की थी। पुलिस ने घटना का मुकदमा लूट में दर्ज कर आरोपितों की तलाश शुरू कर दी थी। घटना के 48 घंटे बाद भी पुलिस हवा में ही तीर चला रही है। योगी राज में परिवार के सदस्यों को बंधक बनाकर अंजाम दी गई डकैती की इस घटना से क्षेत्र में दहशत का माहौल है। आसपास के गांव वाले भी इस घटना को लेकर परेशान हैं और रात जागकर काट रहे हैं।

घर के प्रत्येक कमरे और छत का निरीक्षण

एडीजी जोन मेरठ राजीव सभरवाल ने कयामपुर पहुंचकर पीड़ित फर्जंद तथा उसके बेटे अल्ताफ एवं परवेज से अलग-अलग बात की। एडीजी जोन ने छत पर चढ़कर आसपास का दृष्य भी देखा। प्रत्येक कमरे में जाकर उन्होंने घटना की जानकारी लेते हुए इस दौरान बदमाशों की वार्तालाप की भी जानकारी ली। उन्होंने भरोसा दिलाया कि शीघ्र ही मामले का खुलासा कर दिया जाएगा। इस मौके पर एसपी सिटी अर्पित विजयवर्गीय, सीओ सदर हेमंत कुमार, प्रभारी निरीक्षक थाना यशपाल सिंह आदि शामिल रहे।

परिवार के लोगों की सीडीआर भी निकलवाई

डकैती की घटना के बाद फील्ड यूनिट तथा फोरेंसिक जांच टीम ने भी मौके का मुआयना कर आवश्यक सुबूत जुटाए थे। डाग स्कवायड की भी मदद ली गई थी। लेकिन मौके से पुलिस को कोई ऐसा सुराग नहीं लगा जिससे तुरंत ही घटना का राजफाश किय जा सके। बावजूद पुलिस ने कई संदिग्धों पर नजर रखते हुए परिवार के लोगों की सीडीआर भी निकलवाई। जिनका अध्ययन चल रहा है। पुलिस के अनुसार घटना के राजफाश के लिए एसओजी, सर्विलांस सहित 6 टीम लगाई गई हैं।