ममता बनर्जी के खिलाफ गए विपक्षी दल, पीएम मोदी से मुलाकात को बताया ‘मैच फिक्सिंग’

बंगाल कांग्रेस ने कहा, 'कांग्रेस को कमजोर करने के लिए भाजपा टीएमसी जैसी क्षेत्रीय पार्टियों को मजबूत कर रही है। टीएमसी ने गोवा और त्रिपुरा में चुनाव केवल विपक्षी दलों को बांटने के लिए लड़े थे।'

Opposition parties went against Mamta Banerjee, called meeting with PM Modi 'match-fixing'
Opposition parties went against Mamta Banerjee, called meeting with PM Modi 'match-fixing'
इस खबर को शेयर करें

कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की दिल्ली यात्रा से विपक्षी दलों में हलचल तेज हो गई है। कांग्रेस और वाम दल सीएम बनर्जी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मुलाकात को लेकर ‘मैच फिक्सिंग’ जैसे दावे कर रहे हैं। पार्टियां तृणमूल कांग्रेस पार्टी सुप्रीमो के इस दौरे को प्रवर्तन निदेशालय की हालिया कार्रवाई से जोड़ रही हैं। सीएम बनर्जी चार दिनों के लिए राजधानी पहुंची हैं। वह यहां नीति आयोग की बैठक में शामिल होंगी और अपनी पार्टी के सांसदों से भी मिलकर फ्लोर स्ट्रैटेजी तैयार करेंगी।

बंगाल कांग्रेस के प्रवक्ता रित्जू घोषाल ने कहा, ‘यह मैच फिक्सिंग 2016 बंगाल विधानसभा चुनाव से जारी है। ईडी ने कोयला घोटाला मामले में अभिषेक बनर्जी से केवल दो बार पूछताछ की है। जबकि, सोनिया गांधी और राहुल से बगैर किसी आधार के नेशनल हेराल्ड मामले में हर रोज परेशान किया जा रहा है।’

उन्होंने कहा, ‘कांग्रेस को कमजोर करने के लिए भाजपा टीएमसी जैसी क्षेत्रीय पार्टियों को मजबूत कर रही है। टीएमसी ने गोवा और त्रिपुरा में चुनाव केवल विपक्षी दलों को बांटने के लिए लड़े थे।’

इधर, सीपीआई (एम) के बंगाल सचिव मोहम्मद सलीम ने कहा, ‘यह मीटिंग मैच फिक्सिंग व्यवस्था का हिस्सा है, जो सालों से चल रही है। यह कहा जा रहा है कि बनर्जी, मोदी से राज्य की मांगों को लेकर चर्चा करना चाहती हैं। इस मामले में आमने-सामने की बैठक क्यों? नौकरशाहों को मौजूद रहना चाहिए। इससे पहले सचिव स्तरीय बैठक होनी चाहिए। यह सभी सैटिंग का हिस्सा है। जनता को बेवकूफ नहीं बनाया जा सकता।’

भाजपा की तरफ से भी हो रही बयानबाजी
भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा, ‘बनर्जी हमेशा प्रधानमंत्री के साथ बैठक का फायदा उठाती हैं। वह लोगों को बताती हैं कि उन्होंने सभी परेशानियों को ठीक कर दिया है। हम उम्मीद करते हैं केंद्र उनकी योजनाओं में मदद नहीं करेगा।’ इधर, भाजपा के बंगाल प्रमुख सुकांत मजूमदार ने कहा कि बैठक बनर्जी के लिए किसी तरह से मददगार नहीं होगी।

गुरुवार को अपने भतीजे और टीएमसी महासचिव अभिषेक बनर्जी के साथ दिल्ली पहुंचीं बनर्जी शुक्रवार को पीएम मोदी से मिल सकती हैं। दरअसल, पूर्व मंत्री पार्थ चटर्जी की गिरफ्तारी के कुछ दिन बाद हो रही इस यात्रा के चलते विपक्षी दल बनर्जी पर सवाल उठा रहे हैं। ईडी ने चटर्जी को शिक्षक भर्ती घोटाला मामले में गिरफ्तार किया था। खास बात है कि राजधानी कोलकाता रवाना होने पर भी उन्होंने कोई बयान जारी नहीं किया।