हिमाचल में भारी बारिश का ऑरेंज अलर्ट जारी, नदी-नालों से दूर रहने की सलाह

हिमाचल प्रदेश में भारी बारिश का ऑरेंज अलर्ट जारी हुआ है। मौसम विज्ञान केंद्र शिमला की ओर से प्रदेश में 14 अगस्त को भारी से बहुत भारी बारिश का ऑरेंज अलर्ट जारी हुआ है। वहीं 15 अगस्त के लिए येलो अलर्ट जारी हुआ है। पूरे प्रदेश में 19 अगस्त तक बारिश जारी रहने का पूर्वानुमान है। मौसम विभाग के अनुसार भारी बारिश की स्थिति में पानी, बिजली व संचार सेवाओं में व्यवधान हो सकता है। वहीं, पहाड़ी क्षेत्रों में भूस्खलन हो सकता है। अलर्ट को देखते हुए पर्यटकों व स्थानीय लोगों को नदी-नालों से दूर रहने की सलाह दी गई है और संबंधित विभागों की ओर से जारी एडवाइजरी का पालन करने की सलाह दी गई है।

इस खबर को शेयर करें

हिमाचल प्रदेश में भारी बारिश का ऑरेंज अलर्ट जारी हुआ है। मौसम विज्ञान केंद्र शिमला की ओर से प्रदेश में 14 अगस्त को भारी से बहुत भारी बारिश का ऑरेंज अलर्ट जारी हुआ है। वहीं 15 अगस्त के लिए येलो अलर्ट जारी हुआ है। पूरे प्रदेश में 19 अगस्त तक बारिश जारी रहने का पूर्वानुमान है। मौसम विभाग के अनुसार भारी बारिश की स्थिति में पानी, बिजली व संचार सेवाओं में व्यवधान हो सकता है। वहीं, पहाड़ी क्षेत्रों में भूस्खलन हो सकता है। अलर्ट को देखते हुए पर्यटकों व स्थानीय लोगों को नदी-नालों से दूर रहने की सलाह दी गई है और संबंधित विभागों की ओर से जारी एडवाइजरी का पालन करने की सलाह दी गई है।

नित्थर में भारी बारिश से कई घर नष्ट, कई घर ढहने की कगार पर
नित्थर उप तहसील में बरसात ने अपना कहर बरपाया है। भारी बारिश से उप तहसील के कई ग्रामीण घरों से बेघर होने को मजबूर हो गए हैं। कई ग्रामीणों के घर तबाह हो गए हैं तो कई के घर ढहने की कगार पर पहुंच चुके हैं। कुदरत का रौद्र रूप देखकर प्रभावित परिवार डर के साये में जीने को मजबूर हैं। ग्राम पंचायत घाटू के डपलाड़ गांव में टिकम राम का घर भारी बारिश से भूस्खलन की जद में आकर पूरी तरह से तबाह हो गया है। इसी पंचायत के तहत करोड़ गांव के शिव राम, छाया राम और ओम प्रकाश का घर भी रहने योग्य नहीं बचा है।

स्थानीय गांव के ग्रामीण प्रशासन से मदद की आस लगाए बैठे हैं, लेकिन अभी तक कोई भी अधिकारी मौके पर नुकसान का जायजा लेने नहीं पहुंचा है। ग्राम पंचायत घाटू के प्रधान भोगा राम का कहना है पंचायत में बरसात त्रासदी लेकर आई है। चलने के रास्ते हर जगह से गिर गए हैं और ग्रामीणों को आवाजाही करने में भी भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि मनरेगा के तहत रास्तों को दुरुस्त करने का कार्य शुरू कर दिया गया है। प्रधान भोगा राम ने कहा कि नुकसान के बारे पटवारी से बात की गई है, जो जल्द ही मौके पर पहुंचकर नुकसान का जायजा लेंगे। उधर, एसडीएम निरमंड मनमोहन सिंह का कहना जहां भी नुकसान हुआ है, जायजा लिया जा रहा है।

न्यूनतम तापमान
शिमला में न्यूनतम तापमान 17.4, सुंदरनगर 20.3, भुंतर 19.0, कल्पा 12.0, धर्मशाला 21.2, ऊना 24.2, नाहन 22.9, केलांग 11.1, पालमपुर 19.0, सोलन 20.0, मनाली 15.0, कांगड़ा 22.3, मंडी 21.1, बिलासपुर 23.5, हमीरपुर 21.1, चंबा 20.3, डलहौजी 16.9, रिकांगपिओ 15.9 और कसौली में 18.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है।