मंदिर की मूर्ति टूटने के बाद 2 समुदायों के बीच हिंसक झड़प, 5 गंभीर रूप से घायल; जानें पूरा मामला

राजस्थान के भरतपुर में 2 समुदायों के बीच हिंसक झड़प का मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि खेलते समय दूसरे समुदाय के बच्चों से मंदिर में लगी मूर्ती टूट गई जिसके बाद विवाद शुरू हो गया।

Violent clash between 2 communities after temple idol broken, 5 seriously injured; Know the whole matter
Violent clash between 2 communities after temple idol broken, 5 seriously injured; Know the whole matter
इस खबर को शेयर करें

भरतपुर। भरतपुर के कामां थाना क्षेत्र के करमुका गांव में दो समुदायों के बीच हिंसक झड़प का मामला सामने आया है। गांव में मंगलवार को मंदिर में रखी मूर्ति के टूटने को लेकर विवाद शुरू हुआ था जिसके बाद विवाद ने हिंसा का रूप ले लिया। दोनों तरफ से पत्थरबाजी और मारपीट की घटना में 5 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए हैं। मौके पर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है। पुलिस ने 3 लोगों को हिरासत में लिया है।

खेलते समय बच्चों से टूटी थी मूर्ति

पुलिस ने बताया कि घटना कामां थाना क्षेत्र के करमुका गांव में मंगलवार दोपहर करीब दो बजे की है। खेलते समय दूसरे समुदाय के बच्चों से मंदिर में लगी मूर्ती टूट गई जिसके बाद दोनों पक्षों के लोगों में बाताकही और विवाद शुरू हो गया। मूर्ति खेलते समय बच्चों से टूट गई थी लेकिन लोग इस बात को मान नहीं रहे थे और दूसरे पक्ष के लोगों पर मूर्ति तोड़ने का आरोप लगा रहे थे। देखते ही देखते विवाद ने हिंसक रूप ले लिया। कामां रेंज के एएसपी हिम्मत सिंह ने मामले के बारे में बताया कि मूर्ती टूटने के विवाद की सूचना पर पुलिस गांव पहुंची। पुलिस मामले की जांच कर ही रही थी कि दोनों पक्षों के लोगों के बीच हिंसक झड़प शुरू हो गई। आईपीसी की धारा 151 के तहत 3 लोगों जमील, फकरुद्दीन और अमजद को पुलिस ने हिरासत में लिया है।

हिंसक झड़प में 5 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए हैं। घायलों का इलाज जिला अस्पताल में चल रहा है।वहीं दूसरी तरफ घायलों का आरोप है कि पुलिस को उनके द्वारा ही अज्ञात लोगों द्वारा मूर्ति तोड़ने की सूचना दी गई थी। पुलिस की मौजूदगी में अन्य समुदाय के एक दर्जन से अधिक लोगों ने हमला किया। एएसपी ने बताया कि हिंसक झड़प मामले में शिकायत दर्ज कर ली गई है। गांव में तनाव का माहौल बना हुआ है। शांति और कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए गांव में कई पल्टन पुलिस के जवान तैनात किए गए हैं।