यूपी में युवाओं ने खून से लिखी CM योगी को चिठ्ठी, सामने रखी ये बड़ी डिमांड

यूपी (UP) के संभल जिले के चन्दौसी में रेलवे क्रॉसिंग पर फ्लाई ओवर के निर्माण के लिए शहर के युवा व्यापारियों ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) तक अपनी मांग को पहुंचाने के लिए अनोखा तरीका अपनाया है.

In UP, the youth wrote a letter with blood to CM Yogi, put it in front
In UP, the youth wrote a letter with blood to CM Yogi, put it in front
इस खबर को शेयर करें

संभल: यूपी (UP) के संभल जिले के चन्दौसी में रेलवे क्रॉसिंग पर फ्लाई ओवर के निर्माण के लिए शहर के युवा व्यापारियों ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) तक अपनी मांग को पहुंचाने के लिए अनोखा तरीका अपनाया है. दरअसल शहर के व्यापारियों ने अपने खून से लिखे गए मांग पत्र के जरिए रेलवे क्रासिंग पर जल्द से जल्द फ्लाई ओवर के निर्माण की मांग की है.

दरअसल संभल जिले के चन्दौसी की 36बी रेलवे क्रॉसिंग (36B Railway Crossing) पर फ्लाईओवर न होने की वजह से दिन में कई-कई घंटों तक रेलवे क्रॉसिंग बंद रहती है. जिसकी वजह से लोगों को आवागमन के लिए परेशानी का सामना करना पड़ता है. शहर के लोग बीके एक दशक से इस रेलवे क्रॉसिंग पर फ्लाईओवर की मांग कर रहे हैं.

‘कहीं भी सुनवाई नहीं’
स्थानीय लोगों का कहना है कि इस मामले को लेकर उन्हें केंद्र सरकार के वरिष्ठ मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari), उत्तर प्रदेश सरकार में शिक्षा मंत्री गुलाब देवी (Gulab Devi), जिले के सांसद शफी कुर्र रहमान बर्क (Shafiqur Rahman Barq) समेत कई नेताओं का आश्वासन तो बहुत बार मिल चुका है लेकिन फ्लाईओवर का निर्माण अभी तक नहीं हो पाया है.

आंदोलन की तैयारी
युवा व्यापारी नेता और समाजसेवी अनुज वार्ष्णेय ने कहा, ‘ब्रिज के निर्माण के लिये एक जनआंदोलन किया जाएगा. जल्द ही मुख्यमंत्री योगी को 5000 पोस्टकार्ड भेजें जाएंगे, जिसमें जल्द से जल्द 36-बी फ्लाई ओवर (36B Railway Crosssing Fyuover) के निर्माण कराने की मांग की जाएगी. जब तक फ्लाई ओवर का निर्माण नहीं हो जाता तब तक हम लोगों का संघर्ष जारी रहेगा.’

वहीं स्थानीय लोगों का यह भी कहना है कि शहर के छात्रों, मरीजों और आमजन सभी को जाम की समस्या से जूझना पड़ता है. इस समस्या से हमेशा के लिए निजात दिलाने के लिये रेलवे द्वारा जनहित में जल्द से जल्द ओवर ब्रिज का निर्माण किया जाना बेहद जरूरी है.