उत्तराखंड में BJP नेता हत्याकांड में बड़ा खुलासा, दोस्त ने खुन्नस में की थी हत्या

Uttarakhand Crime : यूएसनगर ज़िले में बीजेपी के स्थानीय नेता की हत्या के मामले में मुख्य आरोपी की गिरफ्तारी के बाद दोस्ती से दुश्मनी तक की कहानी सामने आई है.

इस खबर को शेयर करें

रुद्रपुर. किच्छा के शांतिपुरी में बीजेपी नेता की हत्या मामले के मुख्य आरोपी के साथ ही उसके छोटे भाई और पिता को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया. पुलिस ने आरोपी की निशानदेही पर हत्या में इस्तेमाल की गई 32 बोर की अवैध पिस्टल और कारतूस के साथ वारदात में प्रयुक्त कार भी बरामद की. इसके बरक्स उधमसिंहनगर ज़िले में कानून व्यवस्था पर सवाल खड़े हुए हैं. खनन को लेकर फायरिंग की घटनाओं में 15 दिन के भीतर बाजपुर और शांतिपुरी में दो हत्याएं होने से पुलिस अब एक्शन में आती दिख रही है.

बीजेपी नेता संदीप कार्की की हत्या के मामले में मुख्य आरोपी को गिरफ्तार करने के साथ ही 5 वाहनों को अवैध खनन की लिप्तता में कुर्क किया गया. पुलिस मुख्य आरोपी और उसके भाई पर गैंगस्टर एक्ट में भी कार्रवाई की तैयारी कर रही है. शांतिपुरी क्षेत्र में अवैध खनन की रोकथाम के लिए अस्थायी पिकेट भी लगाने की कवायद होने जा रही है. गौरतलब यह है कि पुलिस की यह कार्रवाई तब हुई, जब कैबिनेट मंत्री सौरभ बहुगुणा और केंद्रीय रक्षा राज्य मंत्री अजय भट्ट ने जल्द गिरफ्तारी के लिए दबाव बनाया.

क्या है मामला और एक्शन का सिलसिला?
शांतिपुरी में 14 मई की सुबह खनन के रास्ते को लेकर बीजेपी मंडल महामंत्री संदीप सिंह कार्की, पंकज जोशी का दूसरे पक्ष के दीपक सिंह मेहता, उसके पिता मोहन सिंह के बीच विवाद हुआ तो मोहन के बड़े बेटे ललित ने तैश में आकर संदीप के सीने में गोली मार दी थी. घटना के बाद ललित, दीपक और मोहन फरार हो गए थे. मृतक के भाई किशन सिंह ने तीनों पर केस दर्ज कराया था. तीनों आरोपियों को अलग अलग जगहों से पुलिस ने पकड़ा.