वेस्ट यूपी के 3 जिलों में भाजपा नेताओं ने काटा बवाल, पुलिस से भिड़े, पिस्टल तानी

वेस्ट यूपी में पुलिस पर सत्ताधारी और दूसरे नेता रौब गालिब करने से नहीं चूक रहे हैं। तीन जिलों में नेता पुलिस से भिड़ गए और जमकर हंगमा हुआ।

BJP leaders created ruckus in 3 districts of West UP, clashed with police, fired pistols
BJP leaders created ruckus in 3 districts of West UP, clashed with police, fired pistols
इस खबर को शेयर करें

मेरठ: वेस्ट यूपी में पुलिस पर सत्ताधारी और दूसरे नेता रौब गालिब करने से नहीं चूक रहे हैं। तीन जिलों में नेता पुलिस से भिड़ गए और जमकर हंगमा हुआ। मुरादाबाद में एसएसपी के बयान को लेकर वेस्ट यूपी भाजपा किसान मोर्चा के अध्यक्ष ने कप्तान को उनको दफ्तर में ही आड़े हाथ ले लिया। इसका वीडियो वायरल हो रहा है। रामपुर जिले में खनन रोकने पर भाजपा नेता और वर्करों ने थाने में घुसकर पुलिस वालों से हाथापाई की। बदायूं में किसान नेता को चेकिंग के लिए रोकने पर हूटर बजाते हुए वह थाने में घुस गया और हंगमा किया। पुलिस मुर्दाबाद के नारे लगाए।

मुरादाबाद एसएसपी ने भाजपा नेताओं से बोला, मेरा दफ्तर है, भिंडी बाजार नहीं
भाजपा किसान मोर्चा के क्षेत्रीय महामंत्री दिनेश ठाकुर से मारपीट के मामले में मोर्चा के वेस्ट यूपी अध्यक्ष तेजा गुर्जर 14 जिलों के पदाधिकारी के साथ विरोध दर्ज कराने और सुरक्षा की मांग को लेकर सोमवार को एसएसपी दफ्तर पहुंचे थे। भीड़ देख एसएसपी भाजपा नेताओं पर भड़क गए। एसएसपी ने भाजपाइयों को पहले बाहर निकलने के लिए बोला। यहां तक कह दिया कि यह एसएपी का दफ्तर है, कोई भिंड़ी बाजार नहीं है। इसको लेकर वेस्ट यूपी किसान मोर्चा अध्यक्ष तेजा गुर्जर के साथ नोकझोंक हुई।

भाजपा नेता दिनेश ठाकुर के नुताबिक, एसएसपी से समय लेने के बाद नेता दफ्तर पहुंचे थे। पीआरओ ने उन्हें रोक दिया। पर्ची भेजने के बाद एसएसपी नहीं बुलाने पर सभी नेता एक साथ अंदर चले गए, तब एसएसपी शिकायतें सुन रहे थे। भीड़ को देखकर एसएसपी गुस्सा हो गए। तेजा गुर्जर और एसएसपी में नोकझोंक हुई। पुलिस ने मीडिया कर्मियों के फोटोग्राफर के कैमरे से फोटो डिलीट कराए। नेताओं के साथ आए कुछ लोगों को बाहर भी कर दिया, तब दोनों पक्षों में बात हुई। बाहर निकलने पर तेजा गुर्जर ने कहा कि मुरादाबाद एसएसपी का काम अच्छा है, पर व्यवहार ठीक नहीं। दिनेश ठाकुर के दो हमलावर गिरफ्तार के जा चुके हैं। अन्य की गिरफ्तारी जल्द करने का आश्वासन दिया है। भाजपा नेता दिनेश ठाकुर ने कहना है कि विवाद में गलती एससपी के पीआरओ की है। एसएसपी हेमंत कुटियाल ने मीडिया को बताया कि बिना अनुमति अचानक भीड़ आने से फरियादियों को परेशानी हुई, तब नियमों का अनुपालन किया गया।

भाजपाइयों पर खनन नहीं करने देने पर पुलिस वालों को पीटने का आरोप
रामपुर जिले में केमरी थाना क्षेत्र में भाजपा नेताओं पर खनन नहीं करने देने पर थाने में घुसकर पुलिस पर हमला कर चार पुलिस कर्मियों को घायल करने का आरोप है। घटना सोमवार की रात 12 बजे के बाद की है। दारोगा राम सजीवन मौर्य के मुताबिक, वह रात्रि अधिकारी के तौर पर हेड कॉन्स्टेबल वीरेंद्र सिंह, तीन कॉन्स्टेबल आशीष, मोनिंद्र और राहुल के साथ ड्यूटी पर थे। सवा बारह बजे रात में चार गाड़ियां में 10-15 लोग थाने के अदर पहुंचे। नाम पूछने पर कमुआ नगला गांव निवासी सौरभ यदुवंशी पिस्टल लेकर आगे आ गया। वह भाजपा का केमरी मंडल अध्यक्ष भी है। उसने मेरे ऊपर पिस्टल तान दी। कहने लगा कि हम बड़े नेता हैं और तुम यहां सबके सामने हमसे परिचय पूछ रहे हो। फिर साथियों के साथ पुलिस पर डंडे बरसा दिए। हेड कॉन्स्टेबल और तीन कॉन्स्टेबल को चोटें आईं। खनन नहीं करने देने पर नाराजगी जताने लगे। अन्य पुलिस कर्मियों के आने पर छह हमलावरों को पकड़ लिया। सौरभ पिस्टल लहराता हुआ बाकी हमलावरों के साथ भाग गया।

चालान काटने पर किसान नेता का भीड़ के साथ थाने में हंगामा
बदायूं में अलापुर थाने के म्याऊं चौकी इंचार्ज को चेकिंग के दौरान एक युवक का चालान काटना परेशानी का सबब बन गया। दरअसल, अलापुर थाना क्षेत्र की चौकी म्याऊं के इंचार्ज धनंजय पांडेय ने वाहन चेकिंग के दौरान बाइक में हूटर लगाने पर चालान कर दिया। उसके बाद एक काल चौकी इंचार्ज को आई और चालन काटने पर धमकी दी गई। दारोगा और काल करने वाले से कहासुनी हो गई। इसका आडियो भी वायरल हो गया। आरोप है कि रात में 40-50 बाइक और चार पहिया वाहनों में हूटर बजाते कुछ लोग थाने पहुंचे। पुलिस मुर्दाबाद और किसान संगठन जिंदाबाद के नारे लगाने लगे। इंस्पेक्टर ने लोगों को समझाकर लौटा दिया। पुलिस का कहना है कि लोगों को बातचीत करने के लिए बुलाया था, जबकि हूटर बजाते थाने जाने वालों का वीडियो भी वारयल बताया जा रहा है। प्रभारी एसएसपी का कहना है कि जानकारी कर जांच कराएंगे।